तेजप्रताप ने आयकर विभाग की पूछताछ से बचने के लिए शंख का सहारा लिया है. मंगलवार को उनके छोटे भाई तेजस्वी यादव और मां राबड़ी देवी से बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग ने पूछताछ की थी. पूछताछ तेजप्रताप से भी होनी थे लेकिन उन्होंने चिट्ठी लिख आयकर विभाग से कहा कि शंख बजाने की वजह से उनका गला खराब हो गया है इसलिए वह सवालों का जवाब नहीं दे सकते. इसपर सुशील मोदी ने कहा कि हमने तो सुना और देखा है कि शंख बजाने से आवाज और साफ होती है खराब नहीं होती है.

आरजेडी के नेता और कार्यकार्ता भले ही बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को लालू प्रसाद यादव का उत्तराधिकारी मानते हों लेकिन बिहार के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने तेजप्रताप को लालू का उत्तराधिकारी बताया है. सुशील मोदी को लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव में सारी सम्भावनाएं नजर आने लगी हैं.

सुशील मोदी का कहना है कि तेजप्रताप का स्टाइल बिल्कुल लालू यादव की तरह है और आने वाले समय में वही आरजेडी का नेतृत्व करेंगे. उन्होंने कहा कि बिहार में प्रतिपक्ष के नेता और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव वक्त के साथ किनारे हो जाएंगे. बीते 27 अगस्त को लालू की रैली में तेजप्रताप यादव का भाषण और हाव-भाव देखकर लगा कि वही आरजेडी की कमाल संभालेंगे.

बीजेपी नेता सुशील मोदी का कहना है कि पटना रैली में तेजप्रताप का भाषण तेजस्वी यादव के बाद हुआ यानी तेजप्रताप को तेजस्वी से ज्यादा वजन दिया गया. तेजस्वी का बयान जेडीयू के बागी सांसद शरद यादव के बाद हुआ और रैली में तेजप्रताप ने तेजस्वी से ज्यादा तालियां बटोरी.

विपक्ष की रैली में तेजप्रताप ने शंख बजाकर भाषण की शुरुआत की थी. सुशील मोदी ने कहा कि उनका हाव-भाव बिल्कुल लालू प्रसाद यादव जैसा था. तेजप्रताप यादव ने अपने भाषण में यह भी कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शंख बजा सकते हैं, बांसुरी बजा सकते हैं तो वह क्यों नहीं. हालांकि सुशील मोदी ने यह भी कहा कि 20 महीने स्वास्थ्य मंत्री रहते तेजप्रताप ने पूरे विभाग की बांसुरी ही बजा दी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here